CIA की पहली महिला डायरेक्टर बनीं जीना हास्पेल , आइए जानते है इनके बारे कुछ खास बाते

0
25

अमेरिकी सीनेट ने जीना हास्पेल को सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (सीआईए) का अगला निदेशक बनाये जाने की पुष्टि कर दी है. 70 साल में पहली बार इस पद पर पहुंचने वाली वह पहली महिला प्रमुख हैं. सीआईए के अगले निदेशक पद के लिए जीन को राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने नामित किया था. उनकी जीत के तुरंत देश के 70 साल के इतिहास में सीआईए की वह पहली महिला निदेशक होंबी. जीना लगभग तीन दशक से सीआईए अधिकारी हैं और जल्‍द ही सीआईए प्रमुख के तौर पर शपथ ग्रहण करेंगी.बाद ट्रंप ने ट्वीट करते हुए कहा,’ हमारी नयी सीआईए निदेशक जीना को बधाई.

बता दें कि सीआईए अमेरिका की खुफिया एजेंसी है. इसका काम अमेरिका की राष्‍ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी जानकारी को दुनियाभर से इकट्ठा करना, उसे प्रोसेस करना और उसका विश्‍लेषण करना होता है. इसके लिए मुख्‍य तौर से ये अपने इंटेलिजेंस अफसरों का इस्‍तेमाल करते हैं. एजेंसी के सारे अधिकारी डायरेक्टर ऑफ नेशनल इंटेलिजेंस को रिपोर्ट करते हैं. ये इस बात को केंद्र में रखकर काम करते हैं कि इन्‍हें अमेरिका के राष्‍ट्रपति और कैबिनेट को खुफिया जानकारी से अवगत कराये रखना है.

61 वर्षीय हास्पेल तीन दशकों से सीआईए की एक अधिकारी के रूप में काम कर रही हैं।  उन्होंने दुनिया भर में कई जगहों पर काम किया है।  पिछले साल हास्पेल को सीआईए के डिप्टी डायरेक्टर के रूप में नियुक्त किया गया था। जीना हेस्पल अपनेकरियर के दौरान कई बड़े पद पर रह चुकी हैं। सीआईए की डायरेक्टर बनने से पहले वह केस ऑफिसर, चार बार स्टेशन चीफ, नेशनल रिसोर्सेज डिवीजन की डिप्टी चीफ, राष्ट्रीय गुप्त सेवा की डिप्टी डायरेक्टर और वर्तमान में सीआईए की डिप्टी डायरेक्टर के पद कार्यरत थीं।  हास्पेल पर विपक्ष के साथ मानवाधिकार संस्थाओं ने 2002 में 9/11 हमले के संदिग्धों से पूछताछ के दौरान उन्हें प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था। सीआईए में अपने करियर के दौरान हास्पेल ने कई बड़े काम किये हैं। अफ्रीका में 80 के दशक में जब वे वहां तैनात थीं, तब उन्होंने मदर टेरेसा की सहायता की। हास्पेलसांसदों ने सांसदों को आश्वासन दिया कि उनके नेतृत्व में, सीआईए दोबारा 9/11 हमले को लेकर किसी भी संदिग्धों से पूछताछ शुरू नहीं करेगा।

बता दें कि सीआईए अमेरिका की खुफिया एजेंसी है, ये इस बात को केंद्र में रखकर काम करते हैं कि इन्‍हें अमेरिका के राष्‍ट्रपति और कैबिनेट को खुफिया जानकारी से अवगत कराये रखना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here