गूगल ने हर्बट सेसिल बूथ का बनाया डूडल,एक  महामारी के दौरान…………..

0
124

 

गूगल ने ब्रिटिश इंजिनियर हर्बट सेसिल बूथ के 147वें जन्मदिन पर डूडल बनाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी है. हर्बट सेसिल बूथ ने पहले पावर्ड वैक्यूम क्लीनर की खोज की थी, जो मिट्टी को भी सोख सकता था. इससे पहले जो वैक्यूम क्लीनर इस्तेमाल होते थे वो मिट्टी को सोखते नहीं थे, बल्कि उसे दूर करते थे.

 

4 जुलाई 1871 को इंगलैंड के लॉर्सेस्टर में जन्म हुआ था

उनके पिता एक लकड़ी के व्यापारी अब्राहम बूथ थे और उनके चार भाई थे. हर्बट ने 18 साल की उम्र में सेंट्रल टेक्निकल कॉलेज, लंदन का एंट्रेस एग्जाम पास कर लिया था. बाद में वे वैक्यूम क्लिनर ऐंड इंजिनियंरिंग कंपनी के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर भी बनें. हबर्ट सेसिल बूथ का विवाह चार्लोट मैरी पीयर्स से सन १९०३ में हुआ था ,जो फ्रांसिस ट्रिंग पियर्स की बेटियों में से एक थी ,1 9 84 और 18 9 8 के बीच उन्होंने लंदन, ब्लैकपूल, पेरिस में मनोरंजन पार्क के लिए फेरिस पहियों को डिजाइन किया था, और वियना जिसमें व्यास 83 मीटर से 92 मीटर था। 18 99 में, उन्होंने बेल्जियम में इस्पात factory  का डिजाइन किया। एक साल बाद उन्होंने लंदन में एक परामर्श अभ्यास खोला।बूथ ने एक आंतरिक दहन इंजन द्वारा संचालित मशीन बनाई।

यह flexible पाइप और कपडे से बने फ़िल्टर के माध्यम से हवा खींचने के लिए पिस्टन पंप का इस्तेमाल करती थी. यह बहुत  बड़ी मशीन थी और इसे घोड़ा गाड़ी द्वारा  जाता था. इसे ईमारत  बाहर खड़ा   और सफाई की जाती।  कमरों की सफाई करने के लिए खिडकियो  पाइप अंदर डाला जाता था.  पफिंग बिली कहा  जाता था. उनका अगला वैक्युम क्लीनर विद्युत् संचालित था. अगले कुछ दशकों में, बूथ ने ब्रिटिश वैक्यूम क्लीनर कंपनी (बीवीसीसी) की स्थापना की जिसने सफाई सेवाओं की पेशकश की और जिसका अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक वह खुद थे।

एक  महामारी के दौरान, वह एडमिरल्टी के लिए सिडेनहम में क्रिस्टल palace  की सफाई में लगा था।  इस काम  के लिए वैक्यूम क्लीनर का इस्तेमाल किया गया था। युद्ध के बाद, उन्होंने बर्मा, भारत और दक्षिण afreca में  पुलों और ब्रिटेन में रेल कंपनियों के लिए पुलों का निर्माण किया।

कैसे सोचा ये मशीन बनाने के बारे में बूथ ने 

बूथ ने अमेरिकी आविष्कारक जॉन एस थुरमैन का डिवाइस एक प्रदशनी में देखा।  जो सतह से धूल उड़ा सकती थी. ये डिवाइस एयर गन की तरह काम करती थी  धूल को हवा में उड़ा देती थी. बूथ ने तभी सोचा की क्यों न एक ऐसे डिवाइस बनाई जाये जो धूल को अपने अंदर इकट्ठा  कर ले. और बूथ की मेहनत रंग लायी उन्होंने एक ऐसे डिवाइस की खोज की जिसे आज वैक्यूम क्लियर का नाम दिया गया. लेकिन ये मशीन बहुत भरी होती थी. जिसे एक स्थान से दूसरे  स्थान ले जाने के लिए बैल गाड़ी की जरुरत पड़ती  थी.

आपको बता दे कि अब्राहम सेसिल बूथ, ट्रान्साटलांटिक टेलीफोन लाइनों के विकास में शामिल थे । बूथ की मृत्यु 14 जनवरी 1 9 55 को इंग्लैंड के क्रयडॉन में हुई थी।