संघ का प्रयास 2019 में बीजेपी सरकार, इस बार कुंभ के सहारे पार्टी की पतवार..

0
10

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने भी अगले वर्ष प्रयाग कुंभ के सहारे सरोकारों के समीकरण संवारकर भाजपा की चुनावी जमीन मजबूत बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। वैसे संघ और भाजपा इसे सांस्कृतिक सरोकारों के प्रति समर्पण बताते हैं, पर मकसद दलितों और पिछड़ों को लामबंद कर हिंदुओं को एकजुट करना भी नजर आ रहा है| भाजपा ने जहां पांच वैचारिक कुंभ से प्रयाग कुंभ के सरोकारों से जुड़ने और समीकरणों को दुरुस्त करने की तैयारी की है तो संघ नवंबर और दिसंबर में प्रदेश में पांच स्थानों पर सरोकार कुंभ करेगा। साथ ही रक्षाबंधन से कुंभ तक पड़ने वाले त्योहारों और पर्वों को भी दलितों और पिछड़ों से संवाद बढ़ाने का जरिया बनाने का फैसला किया गया है।
संघ का सपना 2019  के लोकसभा चुनाव में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की विजय है । इसे संयोग ही कहें कि हिंदुत्व के सांस्कृतिक सरोकारों का प्रतीक कुंभ इस बार तब है जब लोकसभा चुनाव की रणभेरी बज चुकी होगी। कुंभ में देश के सभी हिस्सों से प्रमुख संत और धर्माचार्य शामिल होते हैं। इसीलिए संघ और भाजपा ने कुंभ के सहारे अपने सरोकारों का संदेश देने की तैयारी की है, जिससे उसकी बात देशभर में पहुंच जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here