एयर इंडिया ने लंबी दूरी के यात्रियों को लुभाने और कमाई बढ़ाने के लिए प्रीमियम क्लास में बढ़ाई ये सुविधाएं

0
85

सरकार सार्वजनिक क्षेत्र की एयरलाइन एयर इंडिया के विनिवेश को लेकर प्रतिबद्ध है और एयरलाइन के दक्ष तरीके से परिचालन को प्रबंधन द्वारा योजना तैयार की जा रही है. नागर विमानन मंत्रालय ने यह बात कही. कुछ सप्ताह पहले एयरलाइन की 76 प्रतिशत हिस्सेदारी बिक्री के लिए कोई बोली नहीं मिली थी , जिसके बाद मंत्रालय का यह बयान आया है. नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि एयर इंडिया के लिए भविष्य का कोई कदम एयरलाइन के सर्वश्रेष्ठ हितों को ध्यान में रखकर उठाया जाएगा. प्रभु ने कहा कि भारी कर्ज के बोझ सहित कई मुद्दे एयरलाइन को विरासत में मिले हैं. नागर विमानन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि सरकार एयर इंडिया के रणनीतिक विनिवेश को प्रतिबद्ध है. इसका तौर तरीका क्या होगा , क्या परिस्थितियां होंगी , आगे चलकर हम उसकी निगरानी और आकलन करेंगे.उन्होंने कहा कि एयरलाइन और उसके कर्मचारियों का उसके वित्तीय और विरासत के मुद्दों पर बहुत कम नियंत्रण है, लेकिन वे निश्चत तौर पर सेवाओं में सुधार और एयरलाइन के लिए चमत्कार कर सकते हैं.

प्रदीप कुमार खरोला ने कहा कि अमेरिका जैसे गंतव्यों पर जाने वाले उसके बोइंग 777 विमान के फर्स्ट और बिजनेस क्लास की सीटों को जुलाई अंत तक उन्नत बनाया जाएगा, जबकि अधिकतर यूरोप जाने वाले बोइंग 787 विमान को उन्नत बनाने में एक महीना और लगेगा.
एयर इंडिया ने लंबी दूरी के यात्रियों को लुभाने और कमाई बढ़ाने के लिए अंतरराष्ट्रीय उड़ान भरने वाले अपने बोइंग विमानों में फर्स्ट और  बिजनेस क्लास को और उन्नत बनाया है. क्रू मेंबर की नई यूनिफॉर्म के साथ ही सेवाओं में सुधार उस समय किया गया है, जब सरकार ने घाटे में चल रही सरकारी विमान वाहक सेवा के लिए विनिवेश की योजना अभी रोक दी है.