ब्रिटिश कोर्ट ने भी विजय माल्या को बताया कानून से भगोड़ा

0
77

ब्रिटेन की कोर्ट ने बुधवार को कहा है कि विजय माल्या को “कानून से भगोड़ा” करार दिए जाने का आधार है।माल्या भारत में धोखाधड़ी व मनी लांड्रिंग के मामलों का सामना कर रहा है।

हाइकोर्ट के जज एंड्रयू हेनशॉ ने दर्ज किया कि माल्या कथित वित्तीय गड़बड़ियों के लिए भारत को प्रत्यर्पण किए जाने का विरोध कर रहा है। जज हेनशॉ ने एक दिन पहले मंगलवार को अपने फैसले में माल्या की सम्पतियो को जब्त करने संबंधी वैश्विक आदेश को पलटने से इनकार कर दिया। उन्होंने अपने फैसले में भारतीय अदालत के उस आदेश को सही बताया है कि भारत के 13 बैंक माल्या से 1.55 अरब डॉलर की राशि वसूलने के पात्र हैं।  जज ने अपने फैसले में लिखा है कि उपरोक्त सभी हालात और प्रत्यर्पण का विरोध किए जाने को देखते हुए, माल्या को कानून से भगोड़ा करार दिए जाने का आधार है। माल्या पर भारत में करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी व मनी लांड्रिंग का आरोप है। इन मामले के सामने आने के बाद वह देश छोड़कर भाग गया था।  जज ने अपने फैसले के तहत लिखा है कि उपरोक्त सभी हालात को मद्देनजर रखते हुए, यहां तक कि माल्या द्वारा प्रत्यर्पण के कथित आधार का विरोध किये जाने को देखते हुए,  माल्या को कानून से भगोड़ा करार दिये जाने का आधार है।

बता दे कि  भारत के 13 बैंकों के समूह ने माल्या से 1.55 अरब डॉलर से अधिक की वसूली के लिए यहां एक मामला दर्ज कराया था। माल्या पर भारत में करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी व मनी लांड्रिंग का आरोप है।

बता दे कि सीबीआई ने 1000 से भी ज्यादा पेज की चार्जशीट में कहा है कि किंगफिशर एयरलाइंस ने आईडीबीआई की तरफ से मिले 900 करोड़ रुपए के लोन में से 254 करोड़ रुपए का निजी इस्‍तेमाल किया। किंगफिशर एयरलाइंस अक्टूबर 2012 में बंद हो गई थी। दिसंबर 2014 में इसका फ्लाइंग परमिट भी कैंसल कर दिया गया। 31 जनवरी 2014 तक किंगफिशर एयरलाइंस पर बैंकों का 6,963 करोड़ रुपए बकाया था। इस कर्ज पर ब्याज के बाद माल्या की टोटल लायबिलिटी 9,432 करोड़ रुपए हो चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here