गोवा में राष्ट्रपति ने ‘समान नागरिक संहिता’ के लिए सराहना की

0
47

गोवा विश्वविद्यालय के 30वें दीक्षांत समारोह मे हिस्सा लेने पहुंचे राष्ट्रपति कोविन्द ने गोवा में समान नागरिक संहिता को अमल में लाए जाने की सराहना की है। उन्होंने कहा कि समाज-वैधानिक प्रणाली का लागू होना वास्तव में देश के संविधान में बराबरी के सिद्धांत को प्रतिध्वनित करता है।

गोवा यात्रा पर आए राष्ट्रपति ने पणजी में एक नागरिक सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि समुद्र के तटीय इलाके में दुनिया भर के विभिन्न देशों से विभिन्न उम्र के लोगों का आना जारी रहता है। लोगों के आने से गोवा निवासियों ने ‘ग्लोबल सिटिजन’ का टैग हसिल किया है। राष्ट्रपति ने कहा, ‘मुझे यह जानकर खुशी है कि गोवा सरकार महिलाओं को अधिकारिक बनाने पर विशेष जोर दे रही है। गोवा के पास समान नागरिक संहिता है जिस कारण सभी निवासियों, पुरुषों और महिलाओं को समान अधिकार दिया गया है। यह संहिता हमारे संविधान में बराबरी के सिद्धांत को प्रतिध्वनित करता है और देश को एक अच्छा उदाहरण देता है।’राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को यहां कहा कि भारतीय छात्राओं की जिद और उनका बढ़ता आकादमिक कौशल देश के लिए गेम चेंजर साबित होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि गोवा में लड़कियों की शिक्षा को जिस तरह बढ़ावा दिया जा रहा है, वह अन्य राज्यों के लिए एक मॉडल है। गोवा विश्वविद्यालय के 30वें सालाना दीक्षांत समारोह में हिस्सा लेने गोवा पहुंचे कोविंद ने संस्थान से लुसोफोन और समुद्री अध्ययन के प्रचार में अग्रणी बनने का भी आग्रह किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here